सूर्यप्रकाश मिश्रा

कविता
एक ख़त
कौन हो तुम
गुलशन
जाने क्यूँ
भीगता क़तरा .....!
यथार्थ