डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

कविता - हाइकु
आँखें
दुनिया / ज़िंदगी
हस्ताक्षर
हास्य-व्यंग्य
कल-कल निनाद