अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.09.2015


दिन की डिमांड

दिन की डिमांड थी
खूबसूरत मिजाज।
ख़ुशनुमा माहौल तो है
लेकिन ख़ुशहाली जैसे
बुद्धिजीविता है,
और बुद्धि तो लोकप्रियता में
खोयी हुयी है।
विचारों की तलाश में,
वेल डिज़ाइन्ड
विचार भी
महत्वाकांक्षा भी..
नियंत्रण की मुक्तता,
कितनी चुंबकीय है
दिन की डिमांड की तरह


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें