अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.09.2015


आमंत्रण

आज
एक और सुंदर दिन
एक उपहार जीवन को प्रकृति का
एक अवसर
अपने ही अंदर जलती हुयी
रोशनी को बाहर लाने का
और बाहर के इस अँधेरे में
एक कदम चलने का
बाहर का अँधेरा
जो रोशनी की तरह
जगमग है।
चलेंगें?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें