अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.17.2008
 

वो चला आएगा
सुरेन्द्र कुमार 'अभिन्न'


चिर कर व्योम को...
प्रकाश पुंज
आलोकित करने
जीवन मेरा,
चला आएगा
पथ को दर्शाने हेतु
वो पथप्रदर्शक बन
संग मेरे
चला आएगा
ईश्वर सम रूप है
जो जीवन पर
आधिपात्य कर
मुझे आलोकित करने चला आएगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें