सुरेन्द्र कुमार 'अभिन्न'


कविता

अंकुरित आशाएँ
कहाँ
मेरा बचपन
ये आग
वो चला आएगा