सुनीता ठाकुर


कविता

अथक
एक बीज
औरत नियति सी
पिघलते जज़बात
हक़
हक़ के लिए

दीवान

आस्तीनों मे साँप हैं ...