एस.के. गुडेसर 'अक्षम्य'

कविता
ज़िंन्दगी
तरस
तुम कह दो
निशारम्
आपबीति/संस्मरण
पापा की आँखों से