अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.22.2014


वो नज़रें

जाने कौन सा फ़लसफ़ा ढूँढतीं
मेरे चेहरे में वो नज़रें
जाने कौन सी रूबाई पढ़तीं
मेरे तन पे वो नज़रें
जाने क्यूँ मुझे रूमानी ग़ज़ल समझते वो
शायद मेरे औरत होने के कारण
जाने कौनसा .............................. नज़रें।

मक़ता और मिसरा दोनों मेरी आँखें शायद
लब बहर तय करते
ज़ुल्फ़ें अल्फ़ाज़ों को ढालती
चेहरा एक शेर बनता शायद
मेरे जज़्बात उन नज़रों से मीलों दूर
पलके बेजान सी हो जातीं मेरी
नज़रें बींध देती ज़मीं को मेरी
वो मैली आँखें देख
जाने कौनसा .............................. नज़रें।।

मैं आकाश को छूने निकली थी
मगर घरौंदे तक ही सिमट गई
एक लक्ष्मण रेखा सी खिंच गई
ठिठक गए कदम वो मैली नज़रें देख
किसे दोष दूँ
किसे दोष दूँ, मैं ...... औरत का होना
कैसे ना दोष दूँ, औरत का ना होना
पल पल मरती मैं
कभी काया के भीतर
कभी काया लिए
मरती कभी तन से
कभी मन से
खिरते सपने
गिरते रिश्ते
जाने कौनसा अदब लिए
जाने कौनसा ....................... वो नज़रें।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें