अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.22.2014


गुनगुनी धूप 

पहाड़ियों से उतरती
जाड़ों की गुनगनी धूप की किरणें
रोशनदान से मेरे सिरहाने
आकर अक्सर बैठ जाती थी
कभी गाल थपथपाती
कभी चेहरा चूमती
उसकी नर्म छूअन अच्छी भी लगती मुझे
किसी प्रेयसी की तरह
मुझे जगाने की कोशिश करती
उस कोशिश के सामने
मैं उठ भी जाता
अपनी उनींदी आँखें मलता
झरोखे से बाहर झाँकता
गुनगुनी धूप मुस्कुराती खड़ी मिलती
उनींदी आँख ............. कुछ फर्लांग दूरी पे खड़े
एक खूबसूरत दरख्त पे परिन्दे मीठी तान छेड़ते
मनो, दरख्त संगीत का रियाज़ कर रहा हो
वो तान उनींदी आँखें खोल देती

सुनता रहता उस दरख्त को आँखे मूँदे
हौले-हौले गुनगुनी धूप का टुकड़ा मेरे सिरहाने से
खिसकने लगती
जैसे कही ओर अपना कर्तव्य निभाना हो
मैं उसके चुलबुलेपन पे मुस्कुरा उठता
............ अब सुबह बे-आवाज़ सी लगती
गुनगुनी धूप दबे पाँव आती है
और यूँ ही चली जाती है
अब मैं विपरीत दिशा में सोता हूँ
उसकी नर्म छूअन पाँवों पे
सिहरन नहीं दौड़ा पाती
दिन कशमकश में निकलता
उस दरख्त बिना .............. जो अब
तान नहीं छेड़ता
ना ही परिन्दे उस पे बसेरा करते
ठूंठ बना पड़ा, एक ओर अपने सूखे पत्तों के बीच
सुनो, मासूम दरख्त का घर हथिया लिया
एक काली-कलूटी पत्थर दिल, बेरहम
जो कहीं से किसी को जोड़ती भी ............
और तोड़ती भी है
हाँ! हथियाया भी कईयों की शह पे ...............
मैं उनींदी आँखे लिए ही चल पड़ता हूँ
बाथरूम की ओर अब।



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें