अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.22.2014


एक लम्बी बारिश

झूमता,
गाता,
नाचता,
वो बूढ़ा लोगों की परवाह किए बिना
जनता घूर घूर देखती उसे
पगला गया,
मति मारी गई
कहते गली मोहल्ले वाले उसे
बे-परवाह मस्त अपनी ही धुन में
सड़को पे भरे पानी में कागज़ की नाव चलाता
भरे गड्ढों में उछल-कूद
अठखेलियाँ करता
मानो, बचपना ले आयी उसका
एक लम्बी बारिश


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें