अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.22.2014


भिखारी - दो छोटी कविताएँ

1
कचरे की ढेरी पे,
मानो सिंहासन पे हो बैठा,
जाने किस उधेड़-बुन में,
अपने गालों पे हाथ धरे,
कचरे में पड़े एक आइने में,
अक़्स देखता अपना,
निहारता अपने को,
एक भिखारी।
2
सभ्य कॉलोनी के घरों का,
नकारा सामान,
कूड़ा करकट
कचरा पात्र में
कॉलोनी के बीचो बीच भरा पड़ा
बीनता ढूँढता,
जाने क्या
उस ढेर में
वो भिखारी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें