अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.08.2014


कुछ नये मुक्तक

१.
दर्द अब है मेरी ज़िन्दगी का भाग
दिल में धधकती रही कैसी आग
दिन तो गया कुछ सोचते लिखते हुए
आज मेरी रात गुज़रेगी बस जाग।

२.
दर्द ही तो बन गया है गीत
आह ध्वनि से ध्वनित है संगीत
ज़िन्दगी में हारता ही रहा
बाद मरने के मिली क्या जीत।

३.
समय चलता रहा अपनी चाल से
कहाँ हम सन्तुष्ट अपने हाल से
यदि कुछ अच्छे काम कर जाएँ
तो पराजित नहीं होंगे काल से।

४.
हमारा काम है बस तजारत
हमारी कामना है वज़ारत
हमारे हाथ तो गिरवी रखे
हमारा शौक़ सब की शिकायत।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें