अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.01.2015


एकान्त चाहिये

एकान्त चाहिये मुझे
अकेलापन नहीं
क्योंकि एकान्त है मन की एकाग्रता
और मन का उचटना
सब से कटना है अकेलापन।
एकान्त रचता है
पर अकेला चना भाड़ नहीं भूँजता।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें