अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.01.2016


दु:ख

दु:ख सब को मांझता है
पर उन का क्या
जो दु:ख को ही
काली कमाई से माँझ कर
सुख की मरीचिका में बदल
पूछते हैं दु:ख कहाँ है
वह मन का भ्रम है
भक्ति का पर्याय
भक्ति का बीज है।
पर उन का क्या होगा जो
दु:ख की पहाड़ियों में दबे
मौत माँगते हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें