अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.01.2015


भूल जाओ

मुझे भूल जाओ
जैसे भूले मेरी कविताएँ
मेरे लेख मेरी पुस्तकें
मेरा पता भी
भूल जाओ मुझे
जैसे समय सब कुछ भुला देता है
सब कुछ इतिहास हो जाता है
सब इतिहास मलबा है
जिसे कभी सदियों बाद
खोदते हैं पुरातत्ववेत्ता।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें