अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.16.2017


शिकवे

तुम्हें शिकवा था
मैं कुछ नहीं कहती
मुझे गिला था
तुम कुछ नहीं सुनते
इन्हीं शिकवे शिकायतों में
हम आगे निकल गये ..
उम्र पीछे रह गई..
अब तुम सुनना चाहते हो
पर मैं कहना नहीं चाहती
कल मुझे तुम्हारी ज़रूरत थी
आज तुम्हें मेरी
ज़रूरतों से आगे
भावनायें
संवेग
दिल है
जिसकी क़द्र तुमने नहीं की
समय निकलता गया
और मैं बदलती गई
आज तुम
मुझे सुनना चाहते हो
और मैं
कुछ भी कहना नहीं चाहती


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें