अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.16.2017


मैं तो गूँगी थी तुम भी बहरे निकले

मैं तो गूँगी थी तुम भी बहरे निकले
ग़मों के साये तभी इतने गहरे निकले।

मैं तो चुप थी शायद तुम कुछ बोलो
तुम्हारी ज़ुबाँ पर भी लगे पहरे निकले।

तुम्हारी ख़ामोशी को जाना खरोंच की मानिंद
दर्द उठा तो जाना ज़ख़्म वो गहरे निकले।

न जाने कब यह ज़िंदगी हसीं होगी
अभी तो ख़्वाब ही सुनहरे निकले।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें