सुधा कंसल


कविता

तू कितना मेरे दिल के पास है
क्यों ना जीवन से प्यार करूँ
नन्हा बच्चा
मजदूर माँ

ख़ामोश मन्दिर
जीवन का पड़ाव,...