अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.16.2007
 

अहसासों की नदी

सुदर्शन रत्नाकर

एक नदी बाहर बहती है रिश्तों की
एक नदी भीतर बहती है अहसासों की।
               नदी के भीतर कुछ द्वीप हैं
               बन्धनों के नदी में प्राण हैं साँसों के।
               नदी उफनती भी है,
               नदी सूखती भी है।

कुछ बन्धन हैँ काँटों के
कुछ रिश्ते हैं फूलों के
मैंने जीवन में जो बोया है

उसको ही काटा है;
दु:ख झेला और

कतरा-कतरा सुख बाँटा है।

अपनों का दिया विष पी-पीकर
अमृत के लिए मन तरसा है;
कितनी नदियाँ झेली हैं बाहर
कितनी नदियाँ झेली हैं भीतर
एकान्त कोने में
मन हरदम बरसा है ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें