सुदर्शन रत्नाकर


कविता

अहसासों की नदी
दोराहे पर जीता मन
समय और मेरे बीच
कविता