अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.04.2016


सफलता का राज़

अपने विवाह की पचासवीं वर्षगाँठ को बड़े पैमाने पर मनाने वाले वृद्ध दम्पति से एक परिचित पत्रकार ने पूछा, "आप अपने विवाहित जीवन की सफलता का राज़ बताइए ताकि आज के युवक-युवतियाँ आपसे कुछ सीख सकें।"

पति ने पत्नी की तरफ़ देखते हुए कहा, "पहले पंद्रह वर्ष तो हम शारीरिक सुखों की वजह से एक-दूसरे को चाहते रहे। अगले बीस वर्ष हम दोनों अपने बच्चों को पालने-पोसने, उन्हें उच्च शिक्षा दिलाने और उनके घर बसाने में व्यस्त रहे। उसके बाद के दस वर्ष बच्चों के बच्चों को बड़ा करने में बीत गए।"इतना बताकर वे चुप हो गए।

उन्हें चुप होते देख पत्रकार ने पूछा, "और पिछले पाँच वर्ष?"

इस बार पति के बजाए पत्नी बोली, "बेटे, हमारे पास एक ही एयरकंडीशनर है। आपसी नोक-झोंक के बावजूद हम दोनों को एक ही कमरे में सोना पड़ता है।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें