अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.04.2016


राजनीति

यूँ ख़बर हवा में तो पिछले पंद्रह दिनों से थी लेकिन मंत्री जी इसे पत्रकारों और न्यूज़ चैनलों द्वारा उड़ायी हुई ख़बर मान रहे थे। अभी तीन दिन पहले उनकी मुख्यमंत्री से मुलाक़ात हुई तो सब कुछ सामान्य था। हाँ, यह ज़रूर तय था कि आज मंत्रीमंडल में कुछ बदलाव होंगे। वे नियत वक़्त पर राजभवन पहुँचे तो उन्हें तब पता चला कि उन्हें इस्तीफ़ा देना है। इस्तीफ़े का प्रारूप तैयार था और उसमें उन्हें सिर्फ़ हस्ताक्षर करने थे। उन्होंने हस्ताक्षर तो कर दिए लेकिन उन्हें अभी भी यह नहीं बताया गया कि उनका मंत्रालय किसे दिया जा रहा है? ख़ैर, जब शपथ ग्रहण समारोह शुरू हुआ तो उनकी जगह जिस विधायक को शपथ दिलायी गई, वह तो हमेशा से उनका समर्थक गिना जाता था। यह वही विधायक था जो नियमित रूप से उनसे मुख्यमंत्री की कार्यशैली की आलोचना करता था। उन्हें यह देख ताज्जुब हुआ कि मंत्री पद की शपथ लेने के तुरंत बाद उनके उस समर्थक विधायक ने मुख्यमंत्री के पाँव छुए, उस मुख्यमंत्री के, जिन पर वह हमेशा से आपसी बातचीत में तानाशाही का आरोप लगाता रहा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें