अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.14.2016


बाबा का ढाबा

मुसाफ़िरों से राष्ट्रीय राजमार्गों पर ढाबे वाले मनचाहे पैसे वसूल कर मालामाल हो रहे हैं और यदि कोई उनके ख़िलाफ़ शिकायत करता है तो सरकार या पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती है। इस समाचार को बाबा सुबह से तीसरी बार पढ़ रहा था और फिर उसके दिमाग़ में एक नया विचार पनपने लगा। आख़िर, रात में सोने से पहले उसने निर्णय ले लिया था कि कल उसे क्या करना है।

अगले दिन लोगों ने देखा कि खतौली बाइपास से कुछ आगे "बाबा का ढाबा" भी खुल गया था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें