अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.17.2012


आवभगत

कई बार कालबेल का बटन दबाने के उपरांत अंदर से एक युवती निकल कर बाहर आई और बरामदे में से ही ऊँची आवाज़ में पूछा, "यस? क्या बात है? किससे मिलना है?" वर्मा जी ने बतलाया कि मैं रामनारायण जी के ऑफ़िस में ही काम करता हूँ और उन्हें कुछ ज़रूरी कागज़ात देने आया हूँ। ये सुनकर युवती ने कहा कि मैं अभी पापा को बुलाती हूँ और बिना गेट खोले ही जीने से ऊपर चली गई। लगभग पन्द्रह मिनट बाद रामनारायण जी जीने से नीचे उतरते दिखलाई पड़े। साथ ही उनकी बेटी भी एक हाथ में एक ट्रे में पानी से भरा एक गिलास रखे उनके पीछे-पीछे नीचे उतर रही थी। बाहर तेज़ धूप थी। रामनारायण जी ने लोहे का भारी गेट खोलते हुए पूछा कि भई वर्मा जी इतनी तेज़ गर्मी में दोपहर के वक्त कैसे आना हुआ? अंदर बरामदे में आने पर वर्माजी ने कागज़ों का एक पुलिंदा उनकी ओर बढ़ा दिया। रामनारायण जी वहीं बरामदे में खड़े होकर कागज़ों को देखने लगे। कागज़ों को देखने के बाद रामनारायण जी के चेहरे पर रौनक आ गई और कहने लगे कि वर्मा तुमने बहुत अच्छा किया जो ये पेपर्स मुझे फ़ौरन देने के लिए आ गये। इतना कहकर उन्होंने बेटी के हाथ से ट्रे लेकर पानी का गिलास वर्माजी की ओर बढ़ाते हुए कहा कि लो पहले पानी पीओ। इतनी गर्मी है प्यास लगी होगी। वर्माजी ने गिलास अभी होंठों से लगाया भी नहीं था कि रामनारायण जी ने वहीं बरामदे में खड़े-खड़े पूछा, "वर्माजी क्या सेवा करूँ आपकी? आओ अंदर तो चलो!" वर्माजी ने गिलास का सारा पानी एक ही झटके में हलक से नीचे उतार कर कहा कि धन्यवाद रामनारायण जी अब इजाज़त दीजिए। रामनारायण जी ने हाथ में पकड़ी हुई ट्रे वर्माजी की ओर बढ़ा दी। वर्माजी ने खाली गिलास आहिस्ता से ट्रे में रख दिया और धीरे-धीरे चलते हुए गेट से बाहर आ गए। रामनारायण जी ने झटके से लोहे का भारी गेट बंद करके कुंडी चढ़ा दी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें