अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
सिफर का सफ़र
श्यामल सुमन


नज़र बे जुबाँ और जुबाँ बे नज़र है।
इशारों को समझो तो होता असर है।।

जो मंज़िल पे पहुँचे दिखी और मंज़िल।
ये जीवन तो लगता सिफर का सफ़र है।।

सितारों के आगे अलग भी है दुनिया।
नज़र तो उठाओ उसी की कसर है।।

वे बातें सुनाते रहम की हमेशा।
दिखे आचरण में ज़हर ही ज़हर है।।

चमन में थे बसते सुमन संग काँटे।
ये कैसे बना हादसों का शहर है।।
अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें