अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.16.2014


प्रार्थना

 मुझको वर दे तू भगवान।
सबके संग मेरा उत्थान।।

और बिषमता मिटा न पाये।
मिट जाये तेरी पहचान।।

सबको रोटी देने वाले।
भूखे मरते रोज़ किसान।।

मरे सिपाही नित्य समर में।
कैप्टेन का होता गुणगान।।

जिसे कैद में होना था वे।
पाते रहते हैं सम्मान?

नीति नियम पर चलनेवाले।
समझे जाते अब नादान।।

सरकारें चलतीं हैं ऐसी।
रहती है जनता हलकान।।

बेच रही है पेट की खातिर।
भूखी जनता अब ईमान।।

तुमने ही संसार बनाया।
रोता क्यों है सकल जहान।।

सृष्टि सजाओ तुम जल्दी से।
सुमन की लौटे फिर मुस्कान।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें