श्यामल सुमन


कविता

आत्मबोध
आदत
उलझन
एहसास
कसक
कामना
किरदार
क्या बात है
खिलौना
गिरगिट
चाहत

चिन्गारी भर दे मन में
चुभन

जगत है शब्दों का ही खेल
ज़िंदगी
जाल
जुदाई
दिल्ली से गाँव तक
दोहे
नारी
परिवर्तन
प्रतीति
प्रार्थना
प्रीति
प्रेमगीत
प्रेम-दीप
पसन्द
पहचान
फगुनाहट

भाई अच्छा कौन?
मिलन
यह जीवन शृंगार प्रभु
सपना
समझौता
सिफर का सफ़र
सीख
सेवा है साहित्य सुमन व्यापार नहीं
स्वगत

दीवान

घर मेरा है नाम किसी का
जज़्बात दिल में अगर
जिसकी है नमकीन ज़िन्दगी
दूजा नया सर है
बेबसी
मुस्कान ढूँढता हूँ

हसरत

आलेख

चश्मे का रंग

व्यंग्य
आम आदमी और बाढ़ का सुख
हर समस्या का निदान - पत्नी पुराण