अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.06.2009
 
जीवन सारांश
श्वेता सुधांशु

सफ़र में साथ था -
            अंजली भर पानी,
                     एक डिबरी आग,
                            थोड़े से पके हुए सपने
                और बड़ा सा सवाल -
  "जाना कहाँ है?"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें