अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
09.15.2007
 
आशान्वित
श्वेता सुधांशु

स्याही-हीन कलम
       बरबस बन्द नयन
            दबी-दबी आवाज़
            बावजूद इसके
            मेरे भीतर का इंसान
            जिए जा रहा है
                      हरपल लगातार
                      इस उम्मीद में कि
                      मस्तिष्क में बचा रखी है जो
                      थोड़ी सी आग
        उससे कभी न कभी
            रची जा सकेगी –
                 ’एक पूरी दुनिया
                       साधन सम्पन्न, हरीभरी’


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें