अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.04.2018


भविष्य

“नंदनी आज खाने में क्या है? ज़ोरों की भूख लगी है,” नमन ने कुतुहलवश पूछा।

“तुम्हारी ही पसंद की सारी चीज़ें हैं नमन,” नंदनी ने कहा।

खाना खाते ही नमन ने कहा, “वाह! मज़ा आ गया। नंदनी मैंने पहले भी कहा अभी भी कहूँगा तुम्हारे हाथों में जादू है। जो भी बनाती हो लाजवाब,जो भी खाए बस खाता जाए।”

नंदनी ने बीच मे टोकते हुए कहा, “नमन सोचती हूँ टिफ़िन का काम कर लूँ। हर साल कितने नए बच्चे आते हैं यहाँ पढ़ने जो खाना नहीं बना पाते; उन्हें भी घर जैसा खाना मिलेगा और उस के लिए बाहर भी नहीं जाना पड़ेगा और मेरा हुनर भी बेकार नहीं होगा।”

हर बार की तरह नमन हूं हूं करके हाथ धो के बैडरूम में चला गया। परी को गोद मे उठाकर उसके साथ खेलने लगा।

नंदनी को पता था कि नमन इस बात में कोई इंट्रेस्ट नही लेंगें। फिर भी उसने अपनी बात बोल दी। ये नमन का आज का नहीं है जब भी नंदनी उससे घर के बाहर जाकर या घर में ही रहकर कोई काम करने की बात करती उसका यही रवैया होता था।

ख़ैर, इसी तरह दिन बीतते गए।

एक दिन अचानक नमन ने नंदनी से कहा, “नंदनी मैं सोचता हूँ तुम्हें अपना हुनर घर में ही आज़माना नहीं चाहिए।” नंदनी को एक बार को लगा कि उसने जो सुना वो नमन ने ही कहा है या कि उसके ही दिल की आवाज़ है।

एक मिनट तक उसने नमन को देखा फिर नमन ने कहा, “ऐसे क्यों देख रही हो मैं सच मे चाहता हूँ कि तुम अपने हुनर से अपनी पहचान बनाओ।”

नंदनी ने पूछा, “पाँच सालों से मैं ये पूछती रही, कहती रही आज अचानक क्या हुआ कि आप की सोच बदल गयी।”

नमन ने कहा, “नंदनी आज रश्मि ऑफ़िस में आई थी। उसके बारे में सुना तो अंदर तक हिल गया।”

“रश्मि कौन है?” नंदनी ने पूछा।

“हमारे ऑफ़िस में जो चपरासी है मंगल उसकी बीवी है। उसके माता पिता ने उसे बहुत कम पढ़ाया-लिखाया और छोटी उम्र में ही शादी कर दी। मंगल सिंह ने उसे पढ़ाया-लिखाया। और उसे पुलिस की नौकरी मिल गयी है। दोनों ख़ुश हैं। अगर वो इतनी छोटी सी नौकरी करके इतनी बड़ी सोच रखता है तो मैं क्यों नहीं कर सकता नंदनी। मैं क्यों तुम्हारे हुनर को दबाऊँ। आख़िर मैं बदलूँगा तभी तो कल अपनी बेटी के लिए बेहतर भविष्य की और बेहतरीन समाज पाऊँगा।”

नंदनी की आँखों में गर्व था, पता नहीं किसके लिए मंगल सिंह के लिए या अपनी बेटी के आज़ाद भविष्य के लिए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें