अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.22.2008
 

एक अहसास
शोभा महेन्द्रू


कितना सुखद अहसास है
कोई हर पल- हर घड़ी
मेरे साथ है ।
कभी हँसाता है,
कभी रुलाता है
और कभी ---

आनन्द के उस समुन्द्र में
धकेल देता है
जहाँ------
       अनुभूति की खुमारी है
                 बड़ी लाचारी है ।

मैं षोडषी बन
चहकने लगती हूँ ।
           उसकी बातों में
                    बहकने लगती हूँ ।
अपनी इस दशा को
         कब तक छिपाऊँ
                  और किसको अपना
                                हाल बताऊँ ?
                  अपनी उस अनुभूति के लिए
            शब्द कहाँ से लाऊँ ?
     किसी को क्या
और कैसे बताऊँ ?
ये तो अहसास है ।
          जो कहा नहीं जा सकता
                 समझ सकते हो
                        तो समझ जाओ ।
           नूर की इस बूँद को
      मौन हो पी जाओ ।
मौन हो पी जाओ ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें