अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.10.2016


दो पाटन की चक्की

आज़ादी के बाद
देश का औद्योगिक विकास
तेज़ हुई प्रतिक्रियाएँ
और मानव मूल्यों में परिवर्तन
भारतीय मानस आधुनिक मूल्यों को स्वीकारने लगा
परंपरा और आधुनिकता का द्वंद्व
और इस
दो पाटन की चक्की में
इंसानियत तो कहीं पिस कर रह गयी.....


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें