अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.30.2008
 

नव वर्ष आया है द्वार
शशि पाधा


मंगल दीप जलें अम्बर में
मंगलमय सारा संसार
आशाओं के गीत सुनाता
नव वर्ष आया है द्वार

सुवर्ण रश्मियाँ बाँध लड़ी
ऊषा प्राची द्वार खड़ी
केसर घोल रहा है सूरज
अभिनन्दन की नवल घड़ी

चन्दन मिश्रित चले बयार
नव वर्ष आया है द्वार

प्रेम के दीपक, स्नेह की बाती
आँगन दीप जलायें हम
बदली की बूँदों से घुल मिल
नेह के कण बिखरायें हम

खुशियों के बाँटें उपहार
नव वर्ष आया है द्वार

नव निष्ठा, नव संकल्पों के
संग रहेंगे नव अनुष्ठान
पर्वत जैसा अडिग भरोसा
धरती जैसा धीर महान

सुख सपनें होंगे साकार
नव वर्ष आया है द्वार


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें