अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.16.2008
 

मन तो बसता अपने देश
शशि पाधा


तन जो हो सुदूर कहीं भी,
मन तो बसता अपने देश
वेद, पुराण, श्रुतियों क देश
दर्शन और स्मृतियों का देश

उन्नत मस्तक शोभित हिमगिरी
सागर चरण पखारे जिसका
पावन नदियाँ आँचल सींचें
केसर भाल सँवारे जिसका

माँ सी धरती, पिता हैं अम्बर
तरूवर देव समान यहाँ
सूर्य चाँद और ग्रह नक्षत्र
सब का ही सम्मान यहाँ

गुरुवर सा हर पल संग रहता
भगवद गीता का संदेश
योग ध्यान, निग्रह और संयम
ॠषियों मुनियों का उपदेश

षट ऋतुयों का हो अभिनन्दन
ऐसी धरती और कहाँ
चन्दन गर्भित पवन सुवासित
राग- रागिनी नाद यहाँ

सत्य अहिंसा की भूमि यह
गौतम और गांधी का देश
साहस और बलिदान की मूरत
वीरों की गाथा का देश

यहीं है गीता, यहाँ रामायण
मीरा के मृदु गीत यहाँ
जन-जन गाये सूर कबीरा
भक्ति का संगीत यहाँ

धर्म, ज्ञान विज्ञान संवाहक
और नहीं कोई ऐसा देश
समता और समभाव प्रचारक
जग में मेरा भारत देश

तेरी माटी कुंकुम चंदन
मस्तक रोज़ लगाऊँ मैं
जहाँ रहूँ ,जिस छोर भी जाऊँ
तुझको शीश नवाऊँ मैं

मेरे तो मन मंदिर बसता
देव समान मेरा देश
पूजा अर्चन का यह देश
भक्ति वन्दन का यह देश ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें