अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.09.2008
 

जी चाहता है
शशि पाधा


जी चाहता है-- आज कुछ नया करूँ !

सिंधु की तरंग-सी
             चाँद को चूम लूँ,
वसंत के उल्लास में
            तरंग बन झूम लूँ
बीच जल धार में
            भँवर बन घूम लूँ।

जी चाहता है-----

साज के तार में
           गीत बन कर सजूँ
कोकिला के गान में
           प्रेम के स्वर भरूँ
धरा के खंड खंड को
          राग रंग से रँगूँ ।

जी चाहता है-----

पंछियों की पाँत में
           गगन तक जा उड़ूँ
पुष्प के पराग में
           सुगंध बन कर बसूँ
तितलियों की पाँख में
           रंग बन कर घुलूँ ।

जी चाहता है----

तारों के इन्द्र जाल में
           दीप बन कर जलूँ
दूधिया नभगंग में
           धार सी जा मिलूँ
ओढ़ नीली ओढ़नी
           बादलों में जा घिरूँ

जी चाहता है------

प्राण में उमंग हो
          गान में तरंग हो
जिस राह् पर चलूँ
          हास मेरे संग हो
धरा से आकाश तक
          प्रेम का ही रंग हो

जी चाहता है - जी भर कर जियूँ !
जी चाहता है--आज कुछ नया करूँ !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें