अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.30.2008
 

हिम कण
शशि पाधा


आज शिशिर ने नील गगन के
कानों में इक बात कही
धीमे से बरसाना हिम कण
कुछ पल धरती सोई है

देख धरा की आँख उनींदी
मौन हुआ सारा संसार
पंछी भूले कलरव कूजन
दूर कहीं जा किया विहार

मौन हुई अब चहुँ दिशाएँ
कोहरे में डूबा संसार
मौन खड़े अब तरुवर देखें
धरती का यह रजत श्रंगार

आज शिशिर ने डाली-डाली
हीरक माल पिरोयी है
धीमे से बरसेंगे हिमकण
धरा सिमट कर सोई है

कुछ दिन पहले ऋतुराज ने
सत रंग होली खेली थी
नदिया झरने कलियाँ तितली
सब की रंगी हथेली थी

और ग्रीष्म के ताप की पीड़ा
धीर धरा ने झेली थी
रिमझिम रिमझिम बरसा सावन
धूप छाँव की केलि थी
क्यों आया निर्मोही पतझड़
जाने क्या पहेली थी

आज धरा की अंखियों में
हर पल की याद संजोई है

धीमे से बरसेंगे हिमकण
धरा सिमट कर सोई है ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें