अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.31.2009
 

भावों के पाखी
शशि पाधा


कोरा -कोरा मन का कागद
सूख गये नयनों के रंग
ओ भावों के उड़ते पाखी
कब तक लौट के आओगे
            सतरंगी पाँखों से आखर
                      कब आ लिख कर जाओगे ?

जी भर सावन बरस गया था
भीग न पाया अन्तर्मन
मौन पड़ी अन्त:स की वीणा
नयना भूल गये दर्पण
             भीगे सुर सा राग संवेदन
                      किन तारों पे गाओगे
                                कब तक लौट के आओगे

मानस के सागर में उठती
मृदु सुधियों की अनगिन लहरें
न जाने फिर अब तक कैसे
लगे रहे शब्दों पर पहरे
            
स्वर लहरी के बन्द दरवाज़े
                      क्या तुम खोल न पाओगे
                                कब तक लौट के आओगे?

आ जाओ तो स्वप्न लोक में
दोनों ही भर लें उड़ान
राग -रागिनी झँकृत होगी
रंगों से होगी पहचान
             व्याकुल मन का प्रेम निवेदन
                      कब तक तुम ठुकराओगे
                                अब तो लौट के आओगे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें