डॉ. शशि भल्ला


कविता

ऐसा हो आतंक प्रचण्ड
नींव की ईंट