अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.06.2017


जिज्ञासा

हरी नरम घास पर पसरी है धूप
बगल की बेंच पर खालीपन बैठा है
हवा डगमग टहल रही है
कोई किसी की उँगली नहीं पकड़ता
कोई किसी से बात नहीं करता
सम्बन्ध अकेले ज़मीन खोज रहा है
अजब उमस भरा दिन है
पेड़ किंकर्तव्यविमूढ़ खड़े हैं
स्तब्ध एकदम शान्त है काल
क़ब्र पर जमा हो रहे हैं लोग
आस्था और लाभ को बचाते हुए
पर यह किस की क़ब्र है!
आज तक यह निश्चित नहीं हो सका
और अलग अलग दावों, वायदों में
रौंदा जाता रहा और विकसित होता रहा पार्क
कहाँ गये, कहाँ गये वे लोग आख़िर
आँखों में सुन्दर स्वप्नों वाले
बंजरों को जिन्होंने हरा-भरा बनाया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें