अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
07.19.2014


कविता

एक चेहरा भाव शून्य
                 एकदम सपाट।
अन्तर्मन में द्वंद्व, फिर भी चेहरे पर
                   लगा विराम !
शांत, शिथिल, रेखा विहीन दिखता
               उसका है ललाट।
क्यों नहीं आता चेहरे पर कोई उसके
                 मन का भाव।
करुण क्रंदन, रुदन, मंदन मन उसका
                एकदम उचाट।
एक चेहरा भाव शून्य
                एकदम सपाट।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें