अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.14.2016


होली पर्व पर एक लोकगीत

 सखि, होरी ने धूम मचाई, महिनवा फागुन का।
देखो झूम झूम नाचे है मनवा, महिनवा फागुन का॥

हरे हरे खेतवा में, पीलीपीली सरसों,
टेसू का रंग नहीं, छूटेगा बरसों,
आज धरती का नूतन सिंगार। महिनवा फागुन का...

अबीर गुलाल की धूम मची है,
रंगों की कैसी फुहार चली है,
तन रंग गयो, हाँ मन रंग गयो,
तन रंग गयो मोरा साँवरिया। महिनवा फागुन का ...

कान्हा के हाथ, कनक पिचकारी,
राधा के हाथ सोहे, रंगों की थारी,
होरी खेल रहे बाल गोपाल। महिनवा फागुन का ...

बैरभाव की होरी जली है,
गाती बजाती ये टोली चली है,
सखि प्रेम-रंग बरसै अँगनवा। महिनवा फागुन का ...

सखि, होरी ने धूम मचाई, महिनवा फागुन का।
देखो झूम-झूम नाचे है मनवा, महिनवा फागुन का॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें