अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.11.2016


अनोखा गाना

कौआ बोला काँव काँव।
बिल्ली बोली म्याउँ म्याउँ॥

बोला कबूतर गुटर गूँ।
मुर्गा बोला कुकड़ूँ कूँ॥

चिड़िया बोली चूँ चूँ चूँ।
चूहा बोला कूँ कूँ कूँ॥

गधा तो बोला सीपों सीपों।
बन्दर बोला खों खों खों॥

सबने मिल कर गाना गाया।
जो बच्चों के मन को भाया॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें