अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
युद्ध : दो विचार
डॉ. शैलजा सक्सेना


(1)
इतिहासों के गठ्ठर लेकर, इनसे बाँच रहे क्या भाई,
कितनी ही घटनाएँ हो लीं, बात एक पर समझ न आई,
वही ढाक के तीन पात हैं, बात-बात पर छिड़ी लड़ाई,
अनगिन आहुति लेकर भी, आग लगी बुझने न पाई।।
(2)
जितने आगे बढ़े, उतना बोझ बढ़ा हथियारों का,
जितने शीतल हुए, उतना ताप बढ़ा अँगारों का,
जितने मूक हुए, उतना शोध बढ़ा सँचारों का,
मिले नहीं कोई अपवाद
जीवन बना एक प्रतिवाद ।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें