अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.15.2016


ख़ुशफहमियाँ

बहुत सी ख़ुशफ़हमियाँ पाली थीं मैंने!

जब कभी भीड़ से गुज़री
स्वयँ को अलग पाया,
मेरी विशिष्टताऒं ने
जैसे मेरे चेहरे को
रंग दे दिया हो कुछ अलग ही!

मेरे संघर्ष,
मेरी उपलब्धियाँ,
मेरी उदासियाँ,
मेरी हँसी
जैसे कुछ अद्वितीय हो,
जैसे मैं कुछ अधिक मनुष्य हूँ
शेष सब से,
अधिक संघर्षशील,
अधिक प्रसन्न,
अधिक गहरे उतरी हुई!

जैसे आकाशगंगा मे
चमकता एक तारा
इतरा उठे
अपनी अनोखी
दिपदिपाहट पर
जैसे कोई फूल
उठे फूल
अपनी अतिरिक्त महक पर,

घास का तिनका
झूम उठे
अपने गहरे हरे रंग पर!

ठीक वैसे..............

पर समय ने आँख खोल
दिखाया,
समाज ने
अनेको उदाहरणों से
समझाया...

कि अद्वितीय है
हर व्यक्ति भीड़ में,
विशिष्ट है
अपनी सामान्यताओं में
पैठा हुआ है
गहरे
अपने मन और तन की अनुभूतियों में!
समझ में बड़ा है,
संघर्ष की दौड़ में
सबके साथ
बराबर से खड़ा है!!

प्रसन्न हूँ,
कि इन अद्वितीयों की
भीड़ का एक हिस्सा हूँ,
और हज़ारों कहानियों के बीच
एक मामूली सा क़िस्सा हूँ॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें