अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
हास्य - सवैया
डॉ. शैलजा सक्सेना



नैनिन तिरीछे करि, सैनिन बतावति
मोटे मुछंदर पिया, गाँव के सिपहैया हैं,
एम.एल.ए., एम.पी., पहुँचि बतावति,
छोटे औ बड़े चोर, सबके ये भैया हैं,
इन तै डरे है, सारा गाम, परधान तक
रुष्ट हुए ये, तो राम ही रखैया हैं,
घर में है टी.वी., ए.सी., कार पै करत दौरा
कलिजुग के ये, थानेदारनी के सैंया हैं।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें