अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.15.2016


घड़ी और मैं

अभी पैर बदल गये हैं
घड़ी की तेज़ चलती सुइयों में,
अभी थकावट का काला बादल
ढँक रहा है
ऊर्जा का सूरज
अभी फूल तक रूठे से दिखते हैं
और कामों की लम्बी सूची,
घोंट रही है
मेरे विचारों का गला!

पर लौटेगा बसंत,
जानती हूँ
तब यह बर्फीली हवा
ख़ुद ही बदल कर
पसर जायेगी
गुनगुनी धूप में
मेरे चारों ओर!

तब मैं घड़ी में नहीं,
बल्कि बदल जाऊँगी
समय के अनंत बहते जल में,
जिस पर बहेंगे भावों के
शतदल कमल!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें