शैलेश भारतवासी


कविता

हे भगवान! मुझे कुत्ता मत बनाना
जीने नहीं देते वो