अंन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख्य पृष्ठ

01.26.2008

 
परिचय  
 
नाम :

शैलेश भारतवासी

 

मथुरा में जन्में - विद्यार्थी, शैलेश भारतवासी का कहना है - हर बार समय से यही सवाल करता हूँ, मैं कौन हूँ, मुझे बनाने की जरूरत क्या थी? कुछ नहीं बोलता। माँ की तरह उसे भी साँप सूँघ जाता है। ज्यादा ज्यादा यही करेगा कि मुस्कुरा देगा। जैसे कहता हो सत्य को कभी आईना नहीं दिखाना चाहिए

सम्पर्क : bharatwasi001@gmail.com