अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.15.2012
 
तड़ित रश्मियाँ
शैलेन्द्र चौहान

पेड़ पर टंगी उदासी

पूर्णिमा के चाँद की तरह

झाँकती है स्पष्ट

 

        कोहरे में छुपी

        धूल में लिपटी

        बारिश में भीगी

        मेघ गर्जन सी

 

                तड़ित रश्मियाँ

                एकाएक छिटक जाती हैं

                   देश-प्रदेश के

                    सीले भू-भाग पर

                       कौंधती हैं स्मृतियाँ

                            बीते युगों की


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें